Sunday, March 21, 2010

इस दौर में इन्सान होना गुनाह लगता है !!!!!!!! Life is crime

आज के इस दौर पर नजर डालो यारो ,
इस दौर में इन्सान होना गुनाह लगता है !
इस दौर में हौवानो की इक बस्ती है ,
बस्ती का चारो तरफ शोर बहुत है ,
इस दौर में इन्सान होना गुनाह लगता है !
इस दौर में धर्मो की इक बस्ती है ,
बस्ती का चारो तरफ खौफ बहुत है ,
इस दौर में इन्सान होना गुनाह लगता है !
कोई जाट , कोई सिख , कोई मराठा
कोई हिन्दू , मुस्लिम , सिख , ईसाई
सभी है भाई - भाई !
इबादतों का ये दौर खत्म समझो यारो ,
इस दौर में इन्सान होना गुनाह लगता है !


मंजु चौधरी

4 comments:

डॉ महेश सिन्हा said...

बिल्कुल सही कहा

Rakesh said...

Hi Manju
you said you are bold girl

and in this expressions is daur mein insaan hona gunah lagta hai

what i feel is daur mein insaan hona suhana lagta hai
rab ke liye kaha hai
jab tu hai mere paas
is daur mein insaan hona suhana lagta hai

Amit Rana said...

Good hai Ji

uday shankar said...

nice